आईएसटी :13:47:37

नीलाचल इस्‍पात निगम लिमिटेड

प्रिंट   Download as PDF

एनआईएनएल का संक्षिप्त परिचय

नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (एनआईएनएल) को स्टील उत्पादों के निर्माण और बिक्री के लिए कलिंग नगर औद्योगिक परिसर, जिला जाजपुर , ओडिशा में 1.1 मिलियन टन एकीकृत स्टील प्लांट (आईएसपी) स्थापित करने के लिए 1982 में शुरू किया गया था । साथ के एकीकरण के हिस्से के रूप में और इस्पात क्षेत्र में अपने प्रभावन क्षमता का लाभ उठाने के लिए, एमएमटीसी 49.78% की इक्विटी शेयरधारिता के साथ प्रमुख शेयरधारक है। कंपनी के अन्य प्रमोटरों / प्रमुख शेयरधारकों में द इंडस्ट्रियल इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन कॉरपोरेशन ऑफ  उड़ीसा लिमिटेड (आईपीआईसीओएल), एनएमडीसी लिमिटेड, उड़ीसा माइनिंग कंपनी लिमिटेड (ओएमसी), एनएमडीसी लिमिटेड और मेकॉन लिमिटेड शामिल हैं।

चरण 1

चरण- I में, 1.1 मीट्रिक टन लौह और इस्पात संयंत्र, 0.81 मीट्रिक टन कोक ओवन बैटरी और 62.5 मेगावाट कैप्टिव पावर प्लांट के साथ उत्पाद इकाई स्थापित की गईं। वाणिज्यिक उत्पादन फरवरी 2002 में शुरू हुआ।

चरण-I के लिए किया गया कुल व्यय रूपया 1910 करोड़  था इसकी निधि इक्विटी (400 करोड़ रुपये) और अधिमान शेयर पूंजी (21 करोड़ रुपये) कुल 421 करोड़ रुपये, वित्तीय संस्थाओं/बैंकों से ऋण (1411 करोड़ रुपये) और आंतरिक उपचय (78 करोड़ रुपये) के माध्यम से अर्जित की गई थी। अन्य 21 वित्तीय संस्थाओं/बैंकों के अलावा एसबीआई और आईडीबीआई प्रमुख ऋणदाता थे।

चरण II

परियोजना के दूसरे चरण में एकीकृत स्टील प्लांट के लिए स्टील मेल्टिंग शॉप, कंटीन्यूअस कास्टिंग शॉपलैडल फर्नेस, बिलेट कैस्टर , रोलिंग मिल आदि शामिल थे। लगभग 150 मिलिय टन के भंडार वाली कंपनी की कैप्टिव लौह अयस्क खानों का विकास भी उक्त प्रस्ताव का हिस्सा था। दूसरे चरण के विस्तार की शुरूआत जुलाई 2010 से हुई। खनन सहित दूसरे चरण की अनुमानित परियोजना की लागत रूपये 1855 थी। इस क्रम में  एमएमटीसी के द्वारा रूपए 180.69 करोड़ का विनिवेश किया गया जो कि मुख्य रूप से एनआईएनएल के चरण – II के विस्तार के लिए था। 

दूसरे चरण के बाद शेयरधारिता का ढांचा इस प्रकार है :-

 

क्र.सं.

शेयरधारकों के नाम

शेयर पूंजी होल्डिंग का %

1.

एमएमटीसी

49.78

2.

आईपीआईसीओएल (नामितों सहित)

15.29

3.

ओएमसी

12.32

4.

एनएमडीसी

12.87

5.

मेकॉन

0.86

6.

भेल

0.86

7.

बीको

0.12

8.

जीएडैन्यिल इंडिया लिमिटेड (रु.5/- प्रत्येक का भुगतान किया गया)

0.09

9.

एसएमएस इंडिया प्रा. लिमिटेड (रु.5/- प्रत्येक भुगतान किया गया)

1.11

10.

आईडीबीआई बैंक लिमिटेड

3.24

1 1

आईएफसीआई लिमिटेड

0.39

12.

भारतीय जीवन बीमा निगम

0.76

13.

भारतीय सामान्य बीमा निगम

0.04

14.

नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड

0.02

15.

बैंक ऑफ महाराष्ट्र

0.32

16.

सिंडिकेट बैंक

0.34

17.

ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स

0.22

18.

यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया

0.18

19.

स्टेट बैंक ऑफ मैसूर

0.17

20.

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया

1.02

21.

एमओए के सदस्य

0.00


 

कुल

100.00

एनआईएनएल के विनिवेश पर नवीनतम स्थिति 

नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (एनआईएनएल) का नीतिबद्ध विनिवेश निवेश और लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग, भारत सरकार के माध्यम से शीघ्रातिशीघ्र चल रहा है।
 

एनआईएनएल की बिक्री के लिए रूचि की अभिव्यक्ति (ईओआई) 29 मार्च 2021 को पूरा हो गया दीपम ईओआई के बनिस्पत प्राप्त प्रस्तावों के मूल्यांकन की प्रक्रिया में है और उसके बाद चयन किए गए बोलीदाताओं से मूल्य बोलियों को आमंत्रित करेगा। 

 विनिवेश प्रक्रिया में शीघ्रता के लिए, दीपम विनिवेश को अंतिम रूप देने के लिए नियमित रूप से बैठकें कर रहा है और यह प्रक्रिया वित्तवर्ष 2021-2022 तक पूरी होने की उम्मीद है।  



 

एनआईएनएल का संक्षिप्त परिचय

नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (एनआईएनएल) को स्टील उत्पादों के निर्माण और बिक्री के लिए कलिंग नगर औद्योगिक परिसर, जिला जाजपुर , ओडिशा में 1.1 मिलियन टन एकीकृत स्टील प्लांट (आईएसपी) स्थापित करने के लिए 1982 में शुरू किया गया था । साथ के एकीकरण के हिस्से के रूप में और इस्पात क्षेत्र में अपने प्रभावन क्षमता का लाभ उठाने के लिए, एमएमटीसी 49.78% की इक्विटी शेयरधारिता के साथ प्रमुख शेयरधारक है। कंपनी के अन्य प्रमोटरों / प्रमुख शेयरधारकों में द इंडस्ट्रियल इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन कॉरपोरेशन ऑफ  उड़ीसा लिमिटेड (आईपीआईसीओएल), एनएमडीसी लिमिटेड, उड़ीसा माइनिंग कंपनी लिमिटेड (ओएमसी), एनएमडीसी लिमिटेड और मेकॉन लिमिटेड शामिल हैं।

चरण 1

चरण- I में, 1.1 मीट्रिक टन लौह और इस्पात संयंत्र, 0.81 मीट्रिक टन कोक ओवन बैटरी और 62.5 मेगावाट कैप्टिव पावर प्लांट के साथ उत्पाद इकाई स्थापित की गईं। वाणिज्यिक उत्पादन फरवरी 2002 में शुरू हुआ।

चरण-I के लिए किया गया कुल व्यय रूपया 1910 करोड़  था इसकी निधि इक्विटी (400 करोड़ रुपये) और अधिमान शेयर पूंजी (21 करोड़ रुपये) कुल 421 करोड़ रुपये, वित्तीय संस्थाओं/बैंकों से ऋण (1411 करोड़ रुपये) और आंतरिक उपचय (78 करोड़ रुपये) के माध्यम से अर्जित की गई थी। अन्य 21 वित्तीय संस्थाओं/बैंकों के अलावा एसबीआई और आईडीबीआई प्रमुख ऋणदाता थे।

चरण II

परियोजना के दूसरे चरण में एकीकृत स्टील प्लांट के लिए स्टील मेल्टिंग शॉप, कंटीन्यूअस कास्टिंग शॉपलैडल फर्नेस, बिलेट कैस्टर , रोलिंग मिल आदि शामिल थे। लगभग 150 मिलिय टन के भंडार वाली कंपनी की कैप्टिव लौह अयस्क खानों का विकास भी उक्त प्रस्ताव का हिस्सा था। दूसरे चरण के विस्तार की शुरूआत जुलाई 2010 से हुई। खनन सहित दूसरे चरण की अनुमानित परियोजना की लागत रूपये 1855 थी। इस क्रम में  एमएमटीसी के द्वारा रूपए 180.69 करोड़ का विनिवेश किया गया जो कि मुख्य रूप से एनआईएनएल के चरण – II के विस्तार के लिए था। 

दूसरे चरण के बाद शेयरधारिता का ढांचा इस प्रकार है :-

 

क्र.सं.

शेयरधारकों के नाम

शेयर पूंजी होल्डिंग का %

1.

एमएमटीसी

49.78

2.

आईपीआईसीओएल (नामितों सहित)

15.29

3.

ओएमसी

12.32

4.

एनएमडीसी

12.87

5.

मेकॉन

0.86

6.

भेल

0.86

7.

बीको

0.12

8.

जीएडैन्यिल इंडिया लिमिटेड (रु.5/- प्रत्येक का भुगतान किया गया)

0.09

9.

एसएमएस इंडिया प्रा. लिमिटेड (रु.5/- प्रत्येक भुगतान किया गया)

1.11

10.

आईडीबीआई बैंक लिमिटेड

3.24

1 1

आईएफसीआई लिमिटेड

0.39

12.

भारतीय जीवन बीमा निगम

0.76

13.

भारतीय सामान्य बीमा निगम

0.04

14.

नेशनल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड

0.02

15.

बैंक ऑफ महाराष्ट्र

0.32

16.

सिंडिकेट बैंक

0.34

17.

ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स

0.22

18.

यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया

0.18

19.

स्टेट बैंक ऑफ मैसूर

0.17

20.

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया

1.02

21.

एमओए के सदस्य

0.00


 

कुल

100.00


 

एनआईएनएल के विनिवेश पर नवीनतम स्थिति 

नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड (एनआईएनएल) का नीतिबद्ध विनिवेश निवेश और लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग, भारत सरकार के माध्यम से शीघ्रातिशीघ्र चल रहा है।
 

एनआईएनएल की बिक्री के लिए रूचि की अभिव्यक्ति (ईओआई) 29 मार्च 2021 को पूरा हो गया दीपम ईओआई के बनिस्पत प्राप्त प्रस्तावों के मूल्यांकन की प्रक्रिया में है और उसके बाद चयन किए गए बोलीदाताओं से मूल्य बोलियों को आमंत्रित करेगा। 

विनिवेश प्रक्रिया में शीघ्रता के लिए, दीपम विनिवेश को अंतिम रूप देने के लिए नियमित रूप से बैठकें कर रहा है और यह प्रक्रिया वित्तवर्ष 2021-2022 तक पूरी होने की उम्मीद है। 

 





आगंतुक संख्या : 0026068768
अंतिम नवीनीकरण 22-06-2021